Monday, 26 April 2021

एक अनुभव कोरोनावायरस के नाम

पिछले एक साल में कई कविताएँ व लेख लिख डाले। पता नहीं कितनों को जागरूक कर पाई अपने शब्दमयी जीवन से। पर, जब... वास्तविक जीवन में सामना हुआ उस भयावह आत्मा से, लील जाने वाले दैत्य से, तो मानो जागरूकता के लिए शब्द नहीं बचे थे। 
शरीर  निस्तेज था।
मन मानो शून्य में। 

मैंने महसूस किया कि मैं सबकी अपनी हूँ पर मेरे भीतर जिस भयावह प्रेत आत्मा का वास हो गया है वह मेरे आस-पास भटकने वाले मेरे अपने लोगों को, अपनी एक फूक से अपनी गिरफ्त में ले सकता है।

बस एक चीज अनुभव कर भावुक हो उठी कि मेरे बाद बच्चों के खान-पान का ख़्याल कौन रखेगा !!!!
और झर-झर अश्रुधारा फूट पड़े।
मैं सकारात्मक प्राणी हूँ और कोविड के सकारात्मकता से जूझ रही हूँ  पर शीघ्र ही सकरात्मकपूर्वक इस पर  विजय प्राप्त करुंगी।
 ।।सधु चंद्र।।

10 comments:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (27-4-21) को "भगवान महावीर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं"'(चर्चा अंक-4049) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी इस प्रविष्टि को मंच पर स्थान देने के लिए हार्दिक आभार कामिनी जी।
      सादर।

      Delete
  2. शीघ्र स्वस्थ हों । बस यही हौसला चाहिए । आप सच ही दूसरों के लिए प्रेरणा हैं ।

    ReplyDelete
  3. मन छोटा न करें आदरणीया सधु जी। आप शीघ्र स्वस्थ होंगी। बस अपना पूरा ध्यान रखें।

    ReplyDelete
  4. आप जल्द स्वस्थ होंगी।
    ये कोरोना हारेगा...

    ReplyDelete
  5. कोरोना को हौसले से हरा कर विजयी होंगी...हमारी दुआएँ आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  6. मन मजबूत कीजिए,हम मजबूत हैं तो बड़ी से बड़ी तकलीफ़ दूर हो जाती है।आप जल्दी स्वस्थ होकर वापस आएं यही ईश्वर से प्रार्थना है।

    ReplyDelete
  7. सधु दी, मेरी शुभकामनाएं आपके साथ है।आप बहुत जल्द स्वस्थ्य होगी। हिम्मत रखीए। सकारात्मक सोच से यह संकट भी दूर हो जाएगा।

    ReplyDelete
  8. "वास्तविक जीवन में सामना हुआ उस भयावह आत्मा से, लील जाने वाले दैत्य से, तो मानो जागरूकता के लिए शब्द नहीं बचे थे।"
    बस, यही शब्द इस लेख में नहीं चाहिए थे।
    माना कि हम सब डरे हुए हैं, परंतु यही दोहराते रहिए कि कोरोना मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकता। सतर्कता रखें, सही इलाज भी लें, और मन में यही कहते रहें कि सब ठीक है। मीडिया और समाचारों से तो विशेष दूरी बनाकर रखें ऐसे में। आप पूरी तरह स्वस्थ होंगी जल्दी ही। शुभकामनाएँ और स्नेह।

    ReplyDelete
  9. आपकी सकारात्मकता ही आपको विजयी बनाएगी।
    आप जल्द से जल्द स्वस्थ हों, ईश्वर से यही कामना है।

    ReplyDelete

हमने मौत से लड़कर जीवन जीतना सीखा है।।

उड़ान हौसलों की  ना हो कभी कम  इस आसमां को पी जाएं भर लें बाजुओं में  हवाओं के दम ।।  ऊंची लहर तुम  उठो और ऊँचा   गिरो त...