Thursday, 25 August 2022

बकरी पाती खात है ताकी काढ़ी खाल।जे नर बकरी खात हैं, ताको कौन हवाल।।#कबीर

बकरी पाती खात है ताकी काढ़ी खाल।
जे नर बकरी खात हैं, ताको कौन हवाल।।

अर्थ :
कबीर दास जी कहते हैं कि बकरी एक निर्दोष जीव है जो किसी को नुक़सान नहीं पहुंचती है तब भी उसकी खाल निकाली जाती है।
      अब ये सोचने की बात है कि जो लोग बकरी का भक्षण करते हैं अर्थात् उसका मांस खाते है उनका कितना बुरा हाल होगा यह तो ईश्वर ही बेहतर जानता है।

Moral of the story

जब बेगुनाह की खाल उतार ली जाती है तो गुनाहगार का क्या हश्र होगा!!!!

चित्र-साभार गूगल

Sunday, 21 August 2022

शुभचिंतक की वाणी कठोर तथा स्वार्थ पूरक की मृदु होती है

शुभचिंतक की वाणी कठोर
तथा स्वार्थ पूरक की मृदु होती है
इसके कई प्रमाण है...

।।सधु चन्द्र।।

Friday, 19 August 2022

ठहराव गंदगी उत्पन्न करता है

स्थानांतरण आवश्यक है
क्योंकि...
ठहराव गंदगी उत्पन्न करता है
वातावरण प्रदूषित करता है
चाहे वह जल का हो
व्यक्ति का हो
वस्तु का हो
या ज्ञान का।

Friday, 4 March 2022

जहाँ मीठे फल होते हैं वहाँ तो पत्थर चलते ही हैं...

जहाँ मीठे फल होते हैं 
वहाँ तो पत्थर चलते ही हैं।
पत्थर मीठे फलों पर ही चलना चाहिए 
कहीं और नहीं
 क्योंकि...
मीठे फलों पर फेंके गए पत्थर
तृप्ति प्रदान करते हैं 
किंतु गंदगी में फेंके गए पत्थर 
छींटें...

।।सधु चन्द्र।।।

Sunday, 27 February 2022

इंसान की असलियत की पहचान,उसके आचार व व्यवहार से होती है।

इंसान की असलियत की पहचान,
उसके आचार व व्यवहार से होती है।

एक रोचक क़िस्सा है...

एक बार की बात है राजा के दरबार में एक व्यक्ति रोजगार मांगने गया । जब उससे उसकी क़ाबलियत पूछी गई, तो उसने कहा
"मैं मनुष्य हो या पशु उसकी शक्ल देख कर उसके बारे में बता सकता हूँ,,😇

राजा ने उसे अपने खास "घोड़ों के अस्तबल का इंचार्ज" बना दिया,,,,,😎
कुछ ही दिन बाद राजा ने उससे अपने सब से महंगे और मनपसन्द घोड़े के बारे में पूछा,
तो उसने कहा....
नस्ली नहीं है....😏
राजा को हैरानी हुई, 😳
उसने जंगल से घोड़े वाले को बुला कर पूछा,,,,,
उसने बताया घोड़ा नस्ली तो हैं,
पर इसके पैदा होते ही इसकी मां मर गई थी, 
इसलिए ये एक गाय का दूध पी कर उसके साथ पला बढ़ा है,,,,,
राजा ने अपने नौकर को बुलाया और पूछा तुम को कैसे पता चला के घोड़ा नस्ली नहीं हैं??🧐
"उसने कहा 
"जब ये घास खाता है तो गायों की तरह सर नीचे करके, 
जबकि नस्ली घोड़ा घास मुह में लेकर सर उठा लेता है,,😎
राजा उसकी काबलियत से बहुत खुश हुआ,😊
उसने नौकर के घर अनाज ,घी, मुर्गे, और ढेर सारी बकरियां बतौर इनाम भिजवा दिए ,🥰
और अब उसे रानी के महल में तैनात कर दिया,,,😎
कुछ दिनो बाद राजा ने उससे रानी के बारे में राय मांगी,🧐
उसने कहा, 
"तौर तरीके तो रानी जैसे हैं,
लेकिन पैदाइशी नहीं हैं,😏
राजा के पैरों तले जमीन निकल गई, 😨
उसने अपनी सास को बुलाया,🤨 
सास ने कहा 
"हक़ीक़त ये है कि आपके पिताजी ने मेरे पति से हमारी बेटी की पैदाइश पर ही रिश्ता मांग लिया था,
लेकिन हमारी बेटी 6 महीने में ही मर गई थी,
लिहाज़ा हम ने आपके रजवाड़े से करीबी रखने के लिए किसी और की बच्ची को अपनी बेटी बना लिया,,🥰
राजा ने फिर अपने नौकर से पूछा, 
"तुम को कैसे पता चला??🧐
""उसने कहा, 
" रानी साहिबा का नौकरो के साथ सुलूक गंवारों से भी बुरा है,
एक खानदानी इंसान का दूसरों से व्यवहार करने का एक तरीका होता है,

जो रानी साहिबा में बिल्कुल नहीं।
राजा फिर उसकी पारखी नज़रों से खुश हुआ
और फिर से बहुत सारा अनाज भेड़ बकरियां बतौर इनाम दी।

साथ ही उसे अपने दरबार मे तैनात कर लिया,,😎
कुछ वक्त गुज़रा, 
राजा ने फिर नौकर को बुलाया,
और अपने बारे में पूछा,😇
नौकर ने कहा 
"जान की सलामती हो तो कहूँ”🙏🏻
राजा ने वादा किया तो उसने कहा,
 "न तो आप राजा के बेटे हो,
और न ही आपका चलन राजाओं वाला है"😐
राजा को बहुत गुस्सा आया, 😡
मगर जान की सलामती का वचन दे चुका था,😏
राजा सीधा अपनी माँ के महल पहुंचा...
माँ ने कहा,
ये सच है,
तुम एक चरवाहे के बेटे हो,
हमारी औलाद नहीं थी,
तो तुम्हे गोद लेकर हम ने पाला,,,,,😊
राजा ने नौकर को बुलाया और पूछा , 
बता, " तुझे कैसे पता चला????🧐🤨
उसने कहा 

" जब राजा किसी को "इनाम दिया करते हैं, 
तो हीरे मोती और जवाहरात की शक्ल में देते हैं,
लेकिन आप भेड़, बकरियां, खाने पीने की चीजें दिया करते हैं ...😏

ये रवैया किसी राजा का नही, 
किसी चरवाहे के बेटे का ही हो सकता है,,🤨
किसी इंसान के पास कितनी धन दौलत, सुख समृद्धि, रुतबा, इल्म, बाहुबल हैं ये सब बाहरी दिखावा हैं । 😏

इंसान की असलियत की पहचान,
उसके आचार व व्यवहार से होती है।

(प्रभावित रचना)



Wednesday, 23 February 2022

#परवरिश (Parenting) और पालन

परवरिश (Parenting)
हमारा आचार,व्यवहार,आदतें और रहने का तरीका आदि सभी चीजें परवरिश के जरिए ही हमें मिल पाती है। हम बच्चों को जैसा वातावरण देंगे उसी राह में उनका विकास होगा अतः हम कह सकते हैं कि ऐसा व्यवहार जिसे माता-पिता अपने बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए अपनाते हैं उसे परवरिश कहते हैं ।
 किंतु भरण-पोषण इससे इतर है। 
अपने घर के पालतू पशु-पक्षियों  को भी हम पालते हैं किंतु वह परवरिश नहीं। परवरिश अच्छे संस्कार का प्रतिफल है। 

"हमारा व्यक्तित्व 
हमारा लहजा
हमारे अल्फाज़
  यह निर्धारित करते है कि हमारा पालन हुआ है या परवरिश"।

।। सधु चन्द्र।।

वक्त का खेल

इसे वक्त का खेल ही कहेंगे ...
एड़िया उचकाने वाले 
बड़े बनने लगते हैं।
जी-जी करने वाले 
तू-तू करने लगते हैं।।

।।सधु चन्द्र।।

कौन कहता है!!!

कौन कहता है!!!
पथरीली मिट्टी का क्षरण नहीं होता
लोलुपों का भरण नहीं होता
प्राणवायु के रहते मरण नहीं होता
बंद कमरे में आत्मा का हरण नहीं होता।
।।सधु।।

Sunday, 13 February 2022

एक अटूट बंधन Happy Valentine's Day

एक अटूट बंधन जो जुड़ा तुझसे
बांधे धरा है मेरे बक्से में
तेरी चादर मेरी चुनर तले
पान-कसैली-सिक्के सहित
अभी भी सुरक्षित है वैसे हीं
जो याद दिलाती है
मिलन के मधुर पलों को।।

कभी स्वतंत्र न कर पायी तुझे
अपने चुनर की उस गाँठ से
अभी भी स्मृतियाँ 
ताजी हैं
जीवित हैं 
मेरे श्वास में....।
क्योंकि... कई भाषाओं 
परिभाषाओं से इतर है
हमारी सूक्ति...
तुम मेरे जीवन हो 
मैं तुम्हारी शक्ति
तुम आधिपत्य 
मैं तुम्हारी भक्ति।।

हार जीत के खेल से 
कहीं ऊपर है हम
जीतो तुम जग ~~~
मैंने तुम्हे ही जीत लिया
हार जीत से ऊपर 
मैंने तुम्हारा प्रीत लिया।।

हैप्पी वैलेनटाइन्स डे डियर

         ||सधु चन्द्र।|

Thursday, 10 February 2022

हर तरफ़ हर जगह बेशुमार आदमी

हर तरफ़ हर जगह बेशुमार आदमी

हर तरफ़ हर जगह बेशुमार आदमी
फिर भी तनहाइयों का शिकार आदमी

सुबह से शाम तक बोझ ढोता हुआ
अपनी ही लाश का खुद मज़ार आदमी

हर तरफ भागते दौड़ते रास्ते
हर तरफ आदमी का शिकार आदमी

रोज़ जीता हुआ रोज़ मरता हुआ
हर नए दिन नया इंतज़ार आदमी

ज़िंदगी का मुक़द्दर सफ़र दर सफ़र
आखिरी साँस तक बेक़रार आदमी

-निदा फ़ाज़ली

Sunday, 6 February 2022

नमन

हे ! वाग्देवी की मानसपुत्री
वरदत्त थी वरदत्त रहोगी।
अमर काल की 
अमर यात्रा में,
अनन्त काल तक 
अमर रहोगी।
 श्रद्धाञ्जलि।

Saturday, 29 January 2022

किस शिक्षा नीति/सम्प्रदाय/समाज... में यह मान्य है कि एक शिक्षक दूसरे शिक्षक को मैम/सर नहीं कहेंगे।अमर्यादित तरीके से अपने से अधिक उम्र या औधे वाले शिक्षक को नाम से बुलाएँगे।

हे ईश्वर!
किस शिक्षा नीति/सम्प्रदाय/समाज... में यह मान्य है कि एक शिक्षक दूसरे शिक्षक को मैम/सर नहीं कहेंगे।अमर्यादित तरीके से अपने से अधिक उम्र या औधे वाले शिक्षक को नाम से बुलाएँगे।

विद्यालय का एक कल्चर है कि एक शिक्षक दूसरे शिक्षक को  मैम या सर कह कर संबोधित करते हैं। अमर्यादित तरीके से अपने से अधिक उम्र या औधे वाले शिक्षक को नाम से नहीं बुलाते। ऐसे तो हमारे संस्कारों में ही सम्मान करना सिखाया जाता है किंतु  इसके अलावा शिक्षक को रेगुलर B.Ed की कक्षा के दौरान एक ग्रूमिंग क्लास भी कराया जाता है जिसमें शिक्षक को व्यवहार ज्ञान से अवगत कराया जाता है और यह बताया जाता है कि उन्हें अपने सहकर्मियों एवं सहायक कर्मियों के साथ कैसा व्यवहार करना चाहिए क्योंकि शिक्षक ही बच्चों के मार्गदर्शक होते हैं वे जैसा व्यवहार करते हैं बच्चे वैसा ही सीखते हैं। अतः मर्यादा का पालन करते हुए दीदी-भैया सहायक कर्मियों (ड्राइवर,मेड आदि) को बोला जाना चाहिए।
आप चाहे जिसे दीदी भैया बोले किंतु विद्यालय परिसर में अमर्यादित ढंग से संबोधन ना करें।



किस शिक्षा नीति/सम्प्रदाय/समाज... में यह मान्य है कि एक शिक्षक दूसरे शिक्षक को मैम/सर नहीं कहेंगे।अमर्यादित तरीके से अपने से अधिक उम्र या औधे वाले शिक्षक को नाम से बुलाएँगे।
(भले अजीब हो पर मार्गदर्शन करें)

।।सधु चन्द्र।।

जब नाश मनुज पर छाता है,पहले विवेक मर जाता है।कृष्ण की चेतावनी / रामधारी सिंह "दिनकर"


जब नाश मनुज पर छाता है,
पहले विवेक मर जाता है।


कृष्ण की चेतावनी / रामधारी सिंह "दिनकर"


मैत्री की राह बताने को,
सबको सुमार्ग पर लाने को,
दुर्योधन को समझाने को,
भीषण विध्वंस बचाने को,
भगवान् हस्तिनापुर आये,
पांडव का संदेशा लाये।

‘दो न्याय अगर तो आधा दो,
पर, इसमें भी यदि बाधा हो,
तो दे दो केवल पाँच ग्राम,
रक्खो अपनी धरती तमाम।
हम वहीं खुशी से खायेंगे,
परिजन पर असि न उठायेंगे!

दुर्योधन वह भी दे ना सका,
आशीष समाज की ले न सका,
उलटे, हरि को बाँधने चला,
जो था असाध्य, साधने चला।
जब नाश मनुज पर छाता है,
पहले विवेक मर जाता है।

Wednesday, 26 January 2022

Constitution of India was written by hand.

Happy Republic day to everyone 🙏
Constitution of India was written by hand. 

How many Indians know that the Constitution of India was written by hand. 
No instrument was used to write the whole constitution. 
Prem Bihari Narayan Rayzada, a resident of Delhi, wrote this huge book, the entire constitution, in italic style with his own hands.👇

Prem Bihari was a famous calligraphy writer of that time. He was born on 16 December 1901 in the family of a renowned handwriting researcher in Delhi. He lost his parents at a young age. He became a man to his grandfather Ram Prasad Saxena and uncle Chatur Bihari Narayan Saxena. His grandfather Ram Prasad was a calligrapher. He was a scholar of Persian and English. He taught Persian to high-ranking officials of the English government.

Dadu used to teach calligraphy art to Prem Bihari from an early age for beautiful handwriting. After graduating from St. Stephen's College, Delhi, Prem Bihari started practicing calligraphy art learned from his grandfather. Gradually his name began to spread side by side for the beautiful handwriting. When the constitution was ready for printing, the then Prime Minister of India Jawaharlal Nehru summoned Prem Bihari. Nehru wanted to write the constitution in handwritten calligraphy in italic letters instead of in print. 

That is why he called Prem Bihari. After Prem Bihari approached him, Nehruji asked him to handwrite the constitution in italic style and asked him what fee he would take.

Prem Bihari told Nehruji “Not a single penny. By the grace of God I have all the things and I am quite happy with my life. ” After saying this, he made a request to Nehruji "I have one reservation - that on every page of constitution I will write my name and on the last page I will write my name along with my grandfather's name." Nehruji accepted his request. He was given a house to write this constitution. Sitting there, Premji wrote the manuscript of the entire constitution.

Before starting writing, Prem Bihari Narayan came to Santiniketan on 29 November 1949 with the then President of India, Shri Rajendra Prasad, at the behest of Nehruji. They discussed with the famous painter Nandalal Basu and decided how and with what part of the leaf Prem Bihari would write, Nandalal Basu would decorate the rest of the blank part of the leaf.

Nandalal Bose and some of his students from Santiniketan filled these gaps with impeccable imagery. Mohenjo-daro seals, Ramayana, Mahabharata, Life of Gautam Buddha, Promotion of Buddhism by Emperor Ashoka, Meeting of Vikramaditya, Emperor Akbar and Mughal Empire.. 

Prem Bihari needed 432 pen holders to write the Indian constitution and he used nib number 303. The nibs were brought from England and Czechoslovakia. He wrote the manuscript of the entire constitution for six long months in a room in the Constitution Hall of India. 251 pages of parchment paper had to be used to write the constitution. The weight of the constitution is 3 kg 650 grams. The constitution is 22 inches long and 16 inches wide.

Prem Bihari died on February 17, 1986.

Sunday, 16 January 2022

#शब्द

शब्द
बयार से भी हल्का
फूलों की पखुड़ियों...
से भी कोमल
धरती सा धारक
आकाश सा विस्तृत
प्रेम सा मधुर
अमृत सा ग्राह्य
शूल से भी तीक्ष्ण
ये शब्द अधर पे
मनोभावानुरूप चलते हैं।।
       ||सधु चन्द्र।।

Thursday, 6 January 2022

#विडंबना

जिस देश का पत्रकार बिका हुआ 
विपक्ष डरा हुआ 
जनता मौनधारी हो 
वहाँ लोकतंत्र महज़ मज़ाक है ।
विडंबना.....।

90% लोग मज़ाक में ही जीते हैं
।।सधु चन्द्र।। 

Saturday, 1 January 2022

खृष्टाव्दीयं नववर्षमिदम् --- इति कामये । 🌷

.सर्वस्तरतु दुर्गाणि  सर्वो  भद्राणि पश्यतु ।
सर्व: कामानवाप्नोतु सर्व: सर्वत्र नंदतु ।
"  सब लोग कठिनाइयों को पार करें, कल्याण ही कल्याण देखें, सभी की मनोकामनाएं पूर्ण हो, तथा सभी हर परिस्थिति में आनंदित हो ।
खृष्टाव्दीयं नववर्षमिदम् --- इति कामये ।
✨✨✨✨✨✨✨✨
May this year bring new happiness, new goals, new achievements, and a lot of new inspirations in your life. Wishing you and your family a year fully loaded with 🥳🥳happiness.
*HAPPY NEW YEAR 2022*
✨✨✨✨✨✨✨✨
Warm Regards 
Sadhu Chandra


Friday, 17 December 2021

Don't mugup

मछली की योग्यता है पानी में तैरना 
घोड़े की योग्यता है रेस में दौड़ना 
बंदर की योग्यता है पेड़ पर चढ़ना ।
हर कोई अपने क्षेत्र में निपुण व पारंगत है 

मछली अगर पेड़ पर नहीं चढ़ पाती तो इसका मतलब यह कतई नहीं कि वह अयोग्य है ।
मछली को जीने के लिए 
पेड़ पर चढ़ना नहीं बल्कि 
नदी में तैरना जरूरी है।।

।।सधु चंद्र।।

सब कुछ  जैसा-तैसा करने से अच्छा है 
कुछ अच्छा करें।
Don't mugup

Monday, 13 December 2021

#विस्तार

जिसमें जितनी अधिक क्षमता होगी उससे उस क्षमता को पूरा करने में उतनी ही गलतियाँ होंगी ।
अब हमें विचार करना है कि हम उस क्षमता को काट-छाँट कर एक छोटा सा बगीचा बनाएँ
या उसकी गलतियों को सुधारते हुए एक विस्तृत जंगल।।

।।सधु चन्द्र।। 

Sunday, 5 December 2021

असंतुष्ट लोग


अपने जीवन में असंतुष्ट लोग 
दूसरों की बुराई करते हैं।

।।सधु चन्द्र।।

जनहित में जारी - ये स्वभाव से ईर्ष्यालु होते हैं। 

जनहित में जारी...

पानी ...
सबको एक समान मिलता है 
पर ,
करेला कड़वा, 
बेर मीठा और 
इमली खट्टी होती है 
दोष पानी का नहीं 
बल्कि बीज का है।

*जनहित में जारी - ऐसे कड़वे  बीज से दूरी रखनी चाहिए जो करेले की तरह फ़ायदेमंद न हो।।

Saturday, 20 November 2021

ताकतवर और बुद्धिमान

ताकतवर वही जो ताकत से लड़ाई जीत ले 
पर... 
बुद्धिमान वही जो बुद्धि से उस लड़ाई को रोक दे।।
।।सधु चन्द्र।। 

Tuesday, 19 October 2021

मन का हो तो अच्छा न हो तो और अच्छा...

उपजाऊ या बंजर 
केवल ज़मीन ही नहीं
बल्कि ...
हमारा मन भी होता है ।

जहाँ जो रोपा जाए 
या तो वह खूब बढ़ता 
या तो नष्ट ही होता है ।

पर बात तो 
उस लगन और मेहनत की होती है 
जो बंज़र जमीन का सीना चीर 
जीवट विशालकाय वृक्ष को पनपाता है ।।

मन का हो तो अच्छा 
न हो तो और अच्छा।।

।।सधु चन्द्र।। 

Wednesday, 15 September 2021

घरों पे नाम थे

घरों पे नाम थे...
नामों के साथ ओहदे ।
बहुत तलाश किया पर,
कोई आदमी ना मिला ।।

#बशीर बद्र

Friday, 3 September 2021

तूूफ़ान की पोटली

किसी ने तूूफ़ान की पोटली थमाई... 
पर,  
 मैं हँस कर दूर हो गई...।

सागर की लहरें तेज थी 
स्तब्ध शरीर शांत था ।
पैरों तले रेत खिसकती 
सीने में उठता तूफान था ।
एड़िया जमाई खड़ी रही 
सब कुछ ना इतना आसान था!!!
बस!
कुछ ऊपर वाले 
और कुछ उनके बंदे के ऊपर छोड़ दिया।।

।।सधु चन्द्र।। 

Tuesday, 31 August 2021

वाणी का पड़ता है प्रभाव



वाणी का पड़ता है प्रभाव 

जैसा आप सामने वाले से बातचीत के दौरान शब्दों का प्रयोग करते हैं, वैसा ही प्रभाव सामने वाले पर भी पड़ता है। हमेशा शालीन भाषा का प्रयोग करते हुए सामने वाले को प्रभावित करने का प्रयास किया जाना चाहिए।

किन्तु
हमारे यहाँ की असंतुष्ट ,अतृप्त, दुखी आत्मा...
सुखी आत्मा को झकझोरने की कोई कसर नहीं छोड़ती।।

प्रमाणिक विक्षिप्तता से ...

स्वस्थ दिखने वाले विक्षिप्त जन 
अधिक घातक होते हैं 
क्योंकि ये
मानसिक चोट पहुंचाते हैं।।

।।सधु चन्द्र।। 

चित्र - साभार गूगल 

दिमाग एक ऐसा अंग...

दिमाग 
एक ऐसा अंग जो...
चलता है 
चलाता भी।
जगता है
सोता भी।
गर्म भी होता है 
ठंडा भी ।
अच्छा होता है
खराब भी ।
खाया भी जा सकता है 
चाटा भी ।
खुलता भी है 
बंद भी ।
और तो और 
बत्ती भी जलती है  
जमता है दही भी  😜😜😜

यह दिमाग ही है जो 
आवेश को 
नियंत्रण में रखता है ।
पर प्रयोग न करने पर 
दीमक भी लगता है।

।।सधु चन्द्र।। 

चित्र साभार- गूगल 


Wednesday, 30 June 2021

बच्चे खुशमिज़ाज शिक्षक को पसंद करते हैं और पसंद करें क्यों न!!!

बच्चे खुशमिज़ाज शिक्षक को पसंद करते हैं 
और पसंद  करें क्यों न!!! 

खुशमिज़ाजी के साथ 
पढ़ाया गया पाठ 
बच्चों के ज़ेहन में ...
बस जाता है 
चाहे वह ...
कितना ही कठिन क्यों ना हो!!!

वहीं दूसरी ओर 
बेरुखी से पढ़ाया गया पाठ 
बस... सिलेबस पूरा कर सकता है
ज़ेहन में उतारा नहीं जा सकता ।

क्योंकि...
खुशमिज़ाज माहौल में बच्चे 
खाली पतीले की तरह आते हैं 
चाहे जितना भर दो ।
पर...
इसके विपरीत स्थिति में 
सब कुछ ऊपर-ऊपर 
बह जाता है 
और हमें लगता है कि 
बच्चों के पल्ले ही कुछ नहीं पड़ा!!!!

तो चलिए 
अपना मिज़ाज ही बदल लें ।
खाली पतीले में अपना गुण भर दें।।

।।सधु चन्द्र।। 

Tuesday, 29 June 2021

कुछ हृदय की ज्वारभाटा ने उड़ेला कुछ आँखों की नम लहरों ने...

नजरें टिकी होती हैं
हर प्रक्रिया पर तुम्हारे। 
बहुत थामा था
प्राकृतिक प्रतिक्रिया को हमारे ।। 
पर ...
कुछ हृदय की ज्वारभाटा ने उड़ेला 
कुछ  आँखों की नम लहरों ने।।
 
।।सधु चन्द्र।।

सुनना-सुनाना सब परिस्थितियों का खेल है...


सुनना-सुनाना 
सब परिस्थितियों का खेल है ।
अनुकूल समय...
उपदेश देना 
प्रतिकूल समय ...
उपदेश सुनना 
सीखा देती है ।

एक इंसान...
हर किसी के लिए 
एक सा नहीं होता। 
कोई... अच्छे के लिए अच्छा नहीं होता 
तो कोई ...बुरे के लिए अच्छा नहीं होता।

यह इंसान वही है
 पर जहां एक ओर वह...
किसी के  लिए बुरा नहीं होता 
तो वहीं दूसरी ओर 
किसी के लिए अच्छा नहीं होता।।

।।सधु चन्द्र।।

Sunday, 13 June 2021

ख़ुद में ख़ुद को तलाशने की प्यास है

मैं, मेरी कलम, और जद्दोजहद !!!
ख़ुद में ख़ुद को तलाशने की प्यास है

निरंतर  अनुनादरत 
अंतस प्रतीक्षारत 
अनुनय-विनय के 
शब्दजाल में
कहीं भटक गए हैं। 
मंजिल को पाते-पाते 
हम ख़ुद ही खो गए ।।

गुम हुए इस कदर कि 
खोज में लगे हैं 
अब तक।
पुरातत्ववेत्ताओं ने 
क्या-क्या खोज निकाला ...
भूभाग के अतीत पर
वर्तमान लिख डाला।

कोई तो खोजे मुझे...
मुझे ...
ख़ुद की तलाश है ।

एक परत चढ़ी है 
धूल की
विस्तार पर...
विरासत को विस्तार तक 
पहुँचाना ही खास है ।

धुंधली ज़मी 
लदी अस्तित्व(धूल) से 
धूल में नहा कर ।
धूल, धूलि, गोधुलि में 
धवल  करने आस है ।
मुझे ख़ुद में ख़ुद को 
तलाशने की प्यास है।

।।सधु चन्द्र।। 


Monday, 17 May 2021

हमने मौत से लड़कर जीवन जीतना सीखा है।।

उड़ान हौसलों की 
ना हो कभी कम 
इस आसमां को पी जाएं
भर लें बाजुओं में 
हवाओं के दम ।।

 ऊंची लहर तुम 
उठो और ऊँचा  
गिरो तो चट्टान बन 
भर लूं मैं तुम्हें हमदम।।

कि चलो क्षितिज पार 
मंज़िल है वहाँ 
जहाँ दूर-दूर  सागर से 
आसमां मिलता है।।

अब क्या  खौफ़... किसी का
हमने मौत से लड़कर
जीवन जीतना सीखा है।।

आशा महासाध्वी कदाचित् मां न मुञ्चति।

।।सधु चन्द्र।। 

Monday, 26 April 2021

एक अनुभव कोरोनावायरस के नाम

पिछले एक साल में कई कविताएँ व लेख लिख डाले। पता नहीं कितनों को जागरूक कर पाई अपने शब्दमयी जीवन से। पर, जब... वास्तविक जीवन में सामना हुआ उस भयावह आत्मा से, लील जाने वाले दैत्य से, तो मानो जागरूकता के लिए शब्द नहीं बचे थे। 
शरीर  निस्तेज था।
मन मानो शून्य में। 

मैंने महसूस किया कि मैं सबकी अपनी हूँ पर मेरे भीतर जिस भयावह प्रेत आत्मा का वास हो गया है वह मेरे आस-पास भटकने वाले मेरे अपने लोगों को, अपनी एक फूक से अपनी गिरफ्त में ले सकता है।

बस एक चीज अनुभव कर भावुक हो उठी कि मेरे बाद बच्चों के खान-पान का ख़्याल कौन रखेगा !!!!
और झर-झर अश्रुधारा फूट पड़े।
मैं सकारात्मक प्राणी हूँ और कोविड के सकारात्मकता से जूझ रही हूँ  पर शीघ्र ही सकरात्मकपूर्वक इस पर  विजय प्राप्त करुंगी।
 ।।सधु चंद्र।।

Tuesday, 13 April 2021

अनेकता में एकता का अनूठा दिनांक 14 अप्रैल


अनेकता में एकता का अनूठा दिनांक 14 अप्रैल 
अनूठा दिनांक 14 अप्रैल अनेकता में एकता का पर्व है जो कि वैशाखी एवं अन्य नामों से प्रचलित है तथा हिन्दुओं, बौद्ध और सिखों के लिए महत्वपूर्ण है। 
वैशाख के पहले दिन पूरे भारतीय उपमहाद्वीप के अनेक क्षेत्रों में बहुत से नववर्ष के त्यौहार जैसे 
नववर्ष -कश्मीर (कश्मीरी पंडित) 
बैसाखी - पंजाब 
सतुआन- बिहार
जुड़शीतल- मिथलांचल(बिहार)
पोहेला बोशाख/नबा बर्ष- बंगाल 
बोहाग बिहू- असम
विशु-केरल
पुथंडु-  तमिलनाडु 
यूगाडी- कर्नाटक 
 उगाडी- आन्ध्र प्रदेश 
कोंकण - सम्वत्सर पर्व
आदि मनाए जाते हैं।क्योंकि इस दिन सूर्य, मीन से मेष राशि में प्रवेश करता है। इस कारण इस दिन को मेष संक्रान्ति भी कहते है। इसी पर्व को विषुवत संक्रांति भी कहा जाता है।
14 अप्रैल के इन पर्वों के पीछे कृषि प्रधान देश के रबी फसल की कटाई है।जब खेतों में रबी की फसल पककर लहलहाती हैं,तो देश के कोने-कोने में बसे किसानों के मन में फसलों को देखकर खुशी मिलती और वे अपनी खुशी का इजहार बैसाखी एवं अन्य पर्व के रूप में  मनाकर करते हैं। निश्चय ही या अनेकता में एकता का प्रतीक है।

 इस पर्व को  उत्तर भारत के लोग बेहद  हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। इसे सत्तू संक्रांति या सतुआन भी कहा जाता है।
 

बैसाखी

जुड़ शीतल 

पोहेला बोशाख/नबा बर्ष
बोहाग बिहू

पुथंडु
की शुभकामनाएँ ।


इसके अतिरिक्त संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष,बहुज्ञ   'ज्ञान का प्रतीक' (सिम्बॅल ऑफ नॉलेज) डॉ॰ भीमराव अम्बेडकर के  जन्म दिवस के रूप में भी यह 14 अप्रैल मनाया जाता है।
बाबा अम्बेडकर की जयंती पर उन्हें सादर नमन 🙇। 

।।सधु चन्द्र।। 
चित्र साभार -गूगल 

Thursday, 8 April 2021

मेरा लहज़ा

 
परवरिश और लहज़े में 
अन्योन्याश्रय का संबंध है।

परवरिश मानो पानी 
जैसा पिए वैसा लहज़ा/वैसी वाणी।

यह लहज़ा ही है जो 
आपको 
किसी से दूर ले जाता है ।
यह लहज़ा ही है जो 
आपको 
किसी के करीब लाता है ।।

लोग पसंद करते हैं 
नापसंद करते हैं। 
करीब होते हैं या 
दूर से नमस्कार करते हैं ।।

लहज़ा ही है 
जो ज़ेहन में बस जाता है
चित्रकार के उकेरे चित्र सा 
पन्ने से चिपक जाता है।।

मेरा लहज़ा  ही था
जो उसकी
ज़हन में बस गया ।
बदले में जो चंद शब्द
उसने दिए
ताउम्र मेरी कलम में
वह कविता बन
बस गया।।

।।सधु चन्द्र।।

चित्र- साभार गूगल

Saturday, 3 April 2021

तेरी नज़रें...

 धार तेरी तीखी नजरों की...
कि भाप जाते हैं 
नज़र मिलाने से पहले।

कभी तेरी उठती नज़रें...
कभी तेरी झुकती नज़रें...
उठाने और 
गिराने का 
इरादा साथ रखते हैं...।

।।सधु चन्द्र।।

चित्र - साभार गूगल

Wednesday, 31 March 2021

स्वाभिमान होना चाहिए न कि अभिमान होना चाहिए ।

विनम्रतापूर्ण ज्ञान से ही 
होता मानव ज्ञानी ।
विनय-विवेक-नम्रता बिन 
कहलाता अभिमानी ।।
अतः ....
स्वाभिमान होना चाहिए 
न कि अभिमान होना चाहिए ।

"प्रशंसा" सिर झुका कर 
विनम्रता से स्वीकार हो। 
किंतु... आलोचना पर भी 
गंभीरता से विचार हो ।

क्योंकि!!!
आलोचना...
परिष्कृत स्थान देती है ,
तभी श्रद्धा...
ज्ञान देती है ।
नम्रता...
मान देती है एवं 
योग्यता...
आपको एक स्थान देती है।।

।।सधु चन्द्र।।

Monday, 15 March 2021

क्रोध संतप्त, हृदय विरक्त

क्रोध संतप्त, हृदय विरक्त 
पर न उढे़ल, 
शब्दों से तू रक्त।
अधरों को दे विराम
नयनों का बन भक्त।। 

शिक्षालय है देह तेरा 
हो शिक्षा विषय अनिवार्य
पाखंड,आडंबर विषयों का
सदा ही कर परिहार्य।।

।।सधु चन्द्र।। 

चित्र-साभार गूगल

Wednesday, 3 March 2021

अंतर्मन को छूना, प्रहार से भारी है

हथौड़ी के बार-बार प्रहार करने पर
ताला खुलता नहीं टूट जाता है। 
 निरंतर वार पर जब
 अभिमानी ताला न खुला 
तब हथौड़ी ने, 
चाबी के पास जाकर पूछा...
तुम ऐसा क्या करती हो!!!
जो कि मेरे प्रहार से संभव नहीं!!!
चाबी ने कहा...
 तुम बाह्य प्रहार करते हो पर मैं...
 अंतर्मन को छूती हूँ।

अंतर्मन को छूना, प्रहार से भारी है।
।।सधु चंद्र।।

चित्र-साभार गूगल

हे मन उठ !

स्वारथ सकल पूरित शोरगुल-कोलाहल।
धैर्य मन पीता
नितदिन हलाहल।।
हे मन उठ !
चल क्रान्ति ला।
लोहे को लोहे से काट
जग में शान्ति फैला।।

प्रातर्वन्दन 🙏🙏🙏🙏💐


।।सधु चन्द्र।। 

Sunday, 28 February 2021

आर्थिक निर्भरता क्यों?

आर्थिक रूप से कमजो़र होना ही 
महिला के लिए अभिशाप है।

स्त्री विमर्श से बाहर निकलना 
इतना आसान नहीं...
यह अच्छा है वह बूरा 
काम करने की जरूरत क्या है!!! 
पति की इनकम तो इतनी अच्छी है 
तुम्हें क्या जरूरत आन पड़ी !!!
किस चीज कमी है!! 
जो घर से बाहर निकल पड़ी ।।

वह सब तो सही है ...
पर... एक महिला ही समझ सकती है 
महिला के दिल के हालात...
जब जरूरत पड़ती है तो 
फैलाना पड़ता है हाथ।

भाई साहब! 

बिना वेतन के 
24 घंटे का काम नहीं दिखता 
बस... क्या करती हो!!!
यही ध्वनि कान में बार-बार है गूंजता।।


।।सधु चन्द्र।।

Friday, 26 February 2021

समस्या

दुनिया के साथ समस्या यह है कि 
बुद्धिमान लोग संदेह से भरे हैं जबकि
मूर्ख लोग आत्मविश्वास से।
: वुकोव्स्की :

अब आपकी समझ आपके हाथ  जो समझो😊

Tuesday, 23 February 2021

कारपोरल पनिशमेंट वर्जित

मनुष्य और पशु में 
बड़ा अंतर है 
हिंसा-अहिंसा का।

जहाँ मनुष्य वाणी से 
भावनाओं को अभिव्यक्त करता है, 
वही पशु हिंसा द्वारा ।

सुना है आपके पास पर्याप्त डिग्रियाँ हैं
और मनुष्य के रूप में भी 
अवतार लिया है आपने 
जो कि सृष्टि का 
बुद्धिमान जीव कहलाता है ।

यदि पेड़-पौधों के पास 
पर्याप्त फल हो तो वे 
लदकर झुक जाते हैं 
समर्पित हो जाते हैं ।

कुएं में पर्याप्त पानी हो तो वह 
आपकी पहुंच तक आ जाता है ।
नदियों में पर्याप्त जल हो तो 
खेत-खलिहान लहलहाने लगते हैं।

ख़ुद को योग्य समझने वाले 
क्या लाभ आपके ज्ञान का !!!
जब अंधकार में 
प्रकाश न पहुंचे
और बच्चे आतंकित हों आपके कोप से...।

शिक्षक रोल मॉडल होते हैं उनका  एक ही उद्देश्य और एक ही लक्ष्य होना चाहिए बच्चों में ज्ञान बांटना न कि शारीरिक दंड बांटना। ज्ञान बढ़ाइए कोप नहीं।

।।केवल अपवाद रुपी शिक्षक के लिए।।

।।सधु चंद्र।।
 चित्र - साभार गूगल




Sunday, 21 February 2021

जय-जय-जय चापलूस महाराज

जय-जय-जय चापलूस महाराज 
स्वाभिमान ना आता तुमको रास।
पिछल्ले बने घूमते तुम 
नहीं रुकता कभी 
तुम्हारा कोई काज ।
गुडबुक्स में ऊपर रहते तुम 
बॉस करता तुम पर नाज़ ।
चापलूसी,व्यवहार-कुशल ...
पड़े रहते चरणों के पास।।

शहद में डुबती
वाणी तुम्हारी ।
हर पक्ष में होती 
हामी तुम्हारी ।
उल्लू सीधा करने में ...
तलवे चाटना न, लगता भार।

जय-जय-जय चापलूस महाराज 
स्वाभिमान ना आता तुमको रास।।

स्वार्थ ही परमार्थ ।
स्वाभिमान का परित्याग ।
गिड़गिड़ाते, गिरे रहने पर 
न आता तनिक भी लाज।

हम तो देते तुम्हें एक ही नाम ...
बिन पेंदी का लोटा
जो किसी का ना होता 
बस...
ढलमलाता 
एक कोने से दूसरे कोने तक 
जब तक न पूर्ति हो तुम्हारा स्वार्थ।

#जनहित में जारी
"ऐसे कार्टून लोग अवसरवादी,परिवार व दायित्वों के प्रति कमजोर, धूर्त,पाखंडी व धोखेबाज होते हैं"।।

।।सधु चन्द्र।। 
चित्र - साभार गूगल

Monday, 15 February 2021

सर्द ओस में सिमटे ख़्याल तेरे लिहाफ से निकल बाहर जाते नहीं...

सर्द ओस में सिमटे ख़्याल तेरे 
लिहाफ से निकल बाहर जाते नहीं ।

 लिफाफे के बाहर जो पड़ा है ख़त 
उस ख़त में ऐसा तो कुछ लिखा  नहीं ।
जैसा कि हाथ फेर महसूस.... किया मैंने ।

बहुत रहस्यमयी है 
यह टुकड़ा कागज़ का...।
पता नहीं... 
जो मैंने सोचा 
वह तुमने कहा ! 
या कहा नहीं !

सर्द ओस में सिमटे ख़्याल तेरे 
लिहाफ से निकल बाहर जाते नहीं ।

*****************************************

बहुत ख़ूबसूरत,तिलस्मी है 
झरोखा तेरी यादों का ।
भले बंद हो पलके मेरी 
पर यादों का सिलसिला जाता नहीं ।
कपड़ों को तह करते-करते 
यादों की तहे खुल जाती हैं
और कब तह हो जाती हैं यादें तुम्हारी  
कपड़ों की तहों में 
पता नहीं...!

।।सधु चन्द्र।। 
चित्र - साभार गूगल 

Tuesday, 9 February 2021

धैर्य,क्षमा हो कब तक!!!

धैर्य,क्षमा हो कब तक!!!
अनजाने में हो गलती जब तक ।
किंतु धृष्टता ना हो स्वीकार,
जब जानकर करे कोई 
गलती बार-बार।।

भले... गहना बल का है क्षमा
किन्तु
नहीं हर बार।
अन्त होना अनिवार्य तब
जब शिशुपाल करे
गलती हर बार।


।।सधु चन्द्र।। 

Saturday, 6 February 2021

एक आंतरिक द्वंद्व ... और मैं कवि बन जाता हूँ

 एक आंतरिक द्वंद्व , 
युद्ध अंदर
मस्तिष्क और हृदय के बीच निरंतर।

एक बढ़ता अविरल
शांति-पथ पर 
किन्तु, एक पुनः 
किसी प्रेम-विश्वास के पथ पर ।

कभी अनुभव होता निर्बल
तो कभी दुगना सबल ।
कभी भारी और भारी 
रात्रि सताती
तो कभी चांदनी का स्पर्श 
हल्का कर, थकान मिटाती ।

कभी अधरों पर फीकी मुस्कान 
तो कभी भीतर पीड़ा की खान ।

कभी सूखी धरती 
तो कभी भीगा आसमान ।
कभी आत्मा का तत्व शुष्क 
फिर भी सजल नैनो का 
न होता सत्व विलुप्त ।

कभी कोमल हृदय 
तो कभी हृदय प्रस्तर।

पर, कभी ऐसा भी होता है जब...
सुखी आँखें, होठों पर खींची मुस्कान
किन्तु भीगा मन, 
मुखमौन 
चीख- चीख कर करता बखान...
तब मैं कवि बन जाता हूँ...।

जब मेरे भीतर की उष्मा तेज होती है 
जब मेरे भीतर अतीत 
वर्तमान से द्वंद्व  करता है 
जब सुकोमल मन पर कोई 
हथौड़ी की चोट करता है 
तब मैं कवि बन जाता हूँ।। 

।।सधु चन्द्र।। 

चित्र - साभार गूगल 

Wednesday, 3 February 2021

चलो एक कहानी लिखें ...संवेदनाओं को अपनी ज़ुबानी लिखें...

 सुनो...!
चलो एक कहानी लिखें 
हाट बाज़ार से इतर
संवेदनाओं को
अपनी  ज़ुबानी लिखें।

अक्षर की कटारों में
समय की धार लिखें।
छांव के नाम लिखें...
इज़हार-ए-मुहब्बत धूप का।
ज़रूरत आन पड़ी तो...
आग को आधार लिखें।

चलो एक कहानी लिखें 
संवेदनाओं को
अपनी  ज़ुबानी लिखें।

बर्तनों की ठनठनाहट 
सितारों की जगमगाहट को
न अशरफ़ियो के नाम लिख दें ।

ये जो कुहासा छाया है  
महामारी का ...!!!
उसे चीरते ...
सर्द फाहों पर
अपनी संगत की 
दिवानगी लिख दें ।

चलो एक कहानी लिखें 
संवेदनाओं को
अपनी  ज़ुबानी लिखें।

कुछ तुम कहो 
कुछ मैं ।
कुछ तुम सुनो 
कुछ मैं ।
तुम लिखो 
कुछ मैं ।
ढलते सूरज की तरह 
ज़िन्दगी के भोर की...
रवानगी लिख दें ।

चलो एक कहानी लिखें 
संवेदनाओं को
अपनी  ज़ुबानी लिखें।

।।सधु चन्द्र।।

चित्र  - साभार गूगल

Sunday, 31 January 2021

एक वक़्त था कि प्रेम-पत्र लिखे जाते थे ...

एक वक़्त था कि 
प्रेम-पत्र लिखे जाते थे ।
संकोचवश
मन की बात जो
अधरों तक ना आ पाती 
उसे शब्दों में पिरोए जाते थे।

सुख-दुख आनन्द-पीड़ा 
शब्दों में उकेरे जाते थे ।

यह प्रेम-पत्र ही था 
जिसे वापस मांगते समय 
प्रेमिका 
फूट-फूट कर रोया करती थी ।
और...
यह प्रेम-पत्र ही था जिसे 
गंगा में प्रवाहित कर 
प्रेमी 
आश्वस्त करता 
अपने पावन प्रेम को।


आज की भांति उस समय भी 
हर विषय के गुरु हुआ करते थे ।
यद्यपि पत्र का प्रारूप होता है ।

इसे अक्षरस: सत्य करता 
इसका स्वरूप होता है ।
इसलिए...
एक स्कूल,एक कोचिंग ,एक कॉलेज के
सारे प्रेम-पत्र लगभग 
एक ही प्रारूप में 
एक ही गुरु के मार्गदर्शन में 
लिखे जाते।
कभी कविता 
कभी लेख 
कभी आवेदन को 
जज्बातों की ओखली में कूट कर 
रंगीन स्याही से लबालब रसोई में परोसे जाते।

सिलेक्शन रिजेक्शन के 
कई चरण 
इस दरमियां आते।

यह प्रेम पत्र ही था जो 
असफल प्रेमी को 
सफल शायर बना दिया करता था 
वरना... 
प्रेम की इतनी मजाल कि ...
टूटे दिल का मुशायरा कर ले।।

।।सधु चन्द्र।। 

चित्र -साभार गूगल 

Friday, 29 January 2021

दूसरी पारी अब भी है शेष ...

अमावस्या की रात 
जो चल रही है ...
ना मशाल लेकर 
राह दिखाएगा कोई ।

एक ज्योतिपुंज जो 
जल रही है भीतर तेरे 
मझधार में बन पतवार
पार लगाएगी वही ।

तू चल ...
ना रूक...
बेड़ियों,जंजीरों को तोड़ 
भारी पैर से अटल हो 
मंजिल को अपनी ओर मोड़ ।

तू शूल में भी फूल खिलाने में सक्षम
प्रतिकूल को भी अनुकूल बनाने में सक्षम

क्या हुआ !!!
जो पहली पारी रुक गई ...
दूसरी पारी अब भी है शेष ।
जो होगा तेरे लिए विशेष।।


।।सधु चन्द्र ।।

चित्र - साभार गूगल 

Monday, 25 January 2021

जागो!हे ! हिंद वासियों,पावन इस गणतंत्र पर्व पर।

जागो!
हे ! हिंद वासियों,
पावन इस गणतंत्र पर्व पर।

कुछ लोग 
चंद सिक्के फ़ेककर 
फ़ुसला रहे हैं ।
अवनी की रत्न-राशि लूटते 
पृष्ठ को पुष्ट करते 
प्रजातंत्र में राजतंत्र का 
भोग लगा रहे हैं।

जागो!
हे ! हिंद वासियों,
पावन इस गणतंत्र पर्व पर।

समता को मिटा 
विषमता को फैला रहे 
ये वही है जो...
मौलिक अधिकारों का गला घोटते
निरंतर घोटाले किए जा रहे।

पर कौन...!?
स्वयं सोचे और विचारें ।।
कि आख़िर कौन  है जो...
समाधान और व्यवधान के 
बीच के अंतर को मिटा रहे हैं 
पुण्य भूमि को युद्धभूमि
बना रहे हैं...। 

जागो!
हे ! हिंद वासियों,
पावन इस गणतंत्र पर्व पर।

क्योंकि 
जागरण ही एक निदान है 
तभी होता कर्तव्यों का ज्ञान है। 

अभिमान  हो  देश का केवल 
अधिकारों का ऐसा भान लिए ।

सबका सबसे रहे अनुराग 
भ्रष्टाचार जाए भाग 
शिक्षा,ज्ञान साथ में दान 
जीवट मन आभार लिए ।

जागो!
हे ! हिंद वासियों,
पावन इस गणतंत्र पर्व पर।

।।सधु चन्द्र।। 

चित्र - साभार गूगल 

Thursday, 21 January 2021

निशा का एक पहर अभी बाकी है...

गतिमान पथिक
हम दोनों
और प्रभाकर का 
तेज... प्रबल 
शिकन धुले 
कुछ थकान लिए
अविरल,अविचल,अथक,सबल ।

गरल-तमस को चीरता 
अधरों पर मुस्कान 
अभी ताज़ी है  
कोई राग तो अलापो...
चातक मन प्रतीक्षारत
निशा का एक पहर
अभी बाकी है...।

।।सधु चन्द्र।।

चित्र-साभार गूगल  

घड़ी 🕒 की सुइयाँ उल्टी नहीं चला करतीं...!!!

समय कई जख़़्म देता है 
इसलिए 
घड़ी में फूल नहीं काटें होते हैं।
यूँ तो ...
घड़ी सुधारने वाले 
कई मिल जाएंगे 
पर... 
समय में सुधार 
ख़ुद करना होता है।
और...
इस दुनियाँ में 
कुछ भी बेमतलब नहीं... 
ये बंद घड़ी 🕒 भी 
हरदिन
दो बार सही वक़्त दिखा जाती है। 
बस...अब अमल ख़ुद करना है 
सीख अब ख़ुद लेनी है।
वे लोग
स्वयं फ़ूल बन जाते हैं 
जो समय रहते 
अपनी भूल नहीं सुधारते 
क्योंकि...
घड़ी 🕒 की सुइयाँ 
उल्टी नहीं चला करतीं...!!!

।।सधु चन्द्र।। 

चित्र-साभार गूगल 

Tuesday, 19 January 2021

सबसे बड़ी भेंट

'प्रेम' और 'सम्मान'
दुनियाँ  की  सबसे बड़ी भेंट है। 
किसी को प्रेम व स्नेह देना 
जितना बड़ा उपहार है ।
उससे कहीं बड़ा 
उसे पाना साक्षात् ...
आत्मसम्मान है ।।
*************************

जिंदगी में कितना... क्या है!!! ?
यह मायने नहीं रखता 
बल्कि ...
आपके जीवन में 
कौन कितना समर्पित है!!!
यह मायने रखता है।
***************************

कुछ लोग
सीमित संसाधन में भी 
प्रफुल्लित रहते हैं...
पूर्ण रहते हैं ।
पर कुछ भरे पूरे...
खाली जीवन लिए 
सर्वदा अपूर्ण रहते हैं। 

 ।।सधु चन्द्र।। 

चित्र - साभार गूगल 

Monday, 18 January 2021

भूख इतनी न जगाओ कि ...झमाझम बारिश में भी प्यास ना बुझे ...!

ज़िंदगी का दूसरा नाम 'जिंदादिली' है। 
जो कि बा-मुश्किल लोगों को मिली है।
बिन बारिश भी जो खुद को 
सूखने ना दे, 
पतन होने न दे 
उसी का नाम हरियाली है ।
जिसके लिए स्थिरता चाहिए 
संयम, ठहराव चाहिए। 
भूख इतनी न जगाओ कि ...
झमाझम बारिश में भी 
प्यास ना बुझे ...!
अपने भीतर के पानी को 
इतना न गिराओ कि
मर्यादा  न सूझे...!
वरना ...
सूखे पत्ते की तरह गिर जाओगे ...
और कई लोग हैं 
तुम्हारे नक्श-ए-क़दम पर चलने वाले 
जो तुम्हें ढेर कर आग लगा जाएंगे।
और तुम खुद को जलता हुआ पाओगे।।

।।सधु चन्द्र।।

चित्र - साभार गूगल 

Sunday, 17 January 2021

दास नहीं हो सकता उदास ...

दुर्योधन ने श्री कृष्ण की 

पूरी नारायणी सेना मांग ली

और अर्जुन ने  

केवल श्री कृष्ण को मांगा ।

उस समय...

भगवान श्री कृष्ण ने 

अर्जुन की चुटकी (मजाक) लेते हुए कहा कि 

हार निश्चित है तेरी 

हरदम रहेगा उदास 

माखन दुर्योधन ले गया 

केवल छाछ बची तेरे पास ।

अर्जुन ने कहा- हे प्रभु! 

जीत निश्चित है मेरी 

दास नहीं हो सकता उदास 

माखन लेकर क्या करूं!!? 

जब माखन चोर है मेरे पास।।🙏🙏🙏


चित्र-साभार गूगल

 

Friday, 15 January 2021

मुफ़्तखोरी लोगों को कामचोर और देश को कमज़ोर बनाता है...

जाति विशेष पर टिप्पणी 
नहीं होनी चाहिए। 
जाति लिखी गाड़ियाँ भी सीज कर लो
अच्छी बात है !!!
पर... 
जाति प्रमाण पत्र बनाना भी तो  बंद करो। 🙏
जाति देखकर 
सरकारी सुविधा देना भी बंद करो
जनता को कुछ भी
 मुफ़्त में मत दो।
केवल शिक्षा, न्याय, इलाज ही
मुफ़्त में मिलनी चाहिए।
क्योंकि... 
मुफ़्तखोरी लोगों को कामचोर 
और देश को कमज़ोर बनाता है।

।।सधु चन्द्र।। 


बकरी पाती खात है ताकी काढ़ी खाल।जे नर बकरी खात हैं, ताको कौन हवाल।।#कबीर

बकरी पाती खात है ताकी काढ़ी खाल। जे नर बकरी खात हैं, ताको कौन हवाल।। अर्थ : कबीर दास जी कहते हैं कि बकरी एक निर्दोष जीव है जो कि...